छोड़ना चाहती हूँ इस्लाम, इसमें औरत की कोई इज़्ज़त नहीं : रेहाना रज़ा




उत्तर प्रदेश की रेहाना रज़ा इस्लाम को त्यागकर सनातन धर्म अपनाना चाहती है 
बता दें की रेहाना के शोहर ने कुछ दिनों पहले रेहाना को फ़ोन पर ट्रिपल तलाक दे दिया, वो भी बिना कोई कारण बताये 

और उसके बाद रेहाना को घर से चले जाने का फरमान सुना दिया 
जब रेहाना ने कुछ बोलना चाहा तो इसके जिहादी शोहर ने इसपर एसिड फेंक दिया, और इसके देवर और उसकी बेगम ने भी रेहाना को बुरी तरह मारा 



अब रेहाना ने कहा है की उनकी जिंदगी को कट्टरपंथी मजहबी कानूनों के कारण नर्क बना दिया गया 
वो इस्लाम को त्यागना चाहती है और सनातन धर्म अपनाना चाहती है 
ताकि जो बची हुई जिंदगी है वो कट्टरपंथियों के नियमो से दूर रहकर जी सके 

रेहाना का कहना है की उसे न्याय की कोई उम्मीद नहीं है क्यूंकि कट्टरपंथी मजहब में औरत का कोई महत्त्व ही नहीं है, और किसी प्रकार का न्याय मिलना तो दूर की बात है 

रेहाना ने ये कहा की सनातन धर्म में कम से कम महिला को भी वही अधिकार प्राप्त है जो पुरुष को है 
पर इस्लाम में ऐसा बिलकुल नहीं है और इसी कारण वो जल्द  इस्लाम को छोड़ देंगी चूँकि इस्लाम उनको न्याय नहीं दिला सकता बस और जुल्म ही कर सकता है