अपने हिन्दू फौजी के शहीद होने पर बोले पाकिस्तानी, "एक हिन्दू को शहीद का दर्जा नहीं दिया जा सकता"




हमारे देश के सेक्युलर तत्व, बुद्धिजीवी लेखक, नेता, वामपंथी, फिल्मबाज़ 
कहते है की पाकिस्तान से बातचीत करो, पाकिस्तान से दोस्ती करो 

दैनिक भारत हमेशा से अपने पाठकों को समझाता आया है की पाकिस्तान से मित्रता किसी भी स्तिथि में संभव नहीं है, क्यूंकि पाकिस्तान एक इस्लामिक देश है 
और पाकिस्तान के लोग 98% मुस्लिम आबादी है 
और ये पूरी आबादी हिन्दुओ को काफिर समझते है, हिन्दुओ के बारे में पाकिस्तान के स्कूली किताबों में पढ़ाया जाता है की "हिन्दू गन्दा है उस से दोस्ती मत करो"

पाकिस्तान के स्कूलों में पढ़ाया जाता है "गजवा हिन्द" 
यानि हिन्दुओ को फतह कर भारत को इस्लामिक देश बनाओ, शरिया लगाओ, ये सारी चीजें पढ़कर बड़े होते है पाकिस्तानी, इनकी मानसिकता में हिन्दुओ के लिए कितनी नफरत है आज हम आपको वो दिखाते है 


पाकिस्तानी सेना का एक हिन्दू सैनिक पाकिस्तान के वज़ीरिस्तान में शहीद हो गया, उसपर पाकिस्तानी डिफेन्स ने अपने सैनिक को श्रद्धांजलि दी 

देखें इसपर पाकिस्तानियों ने क्या कहना शुरू किया 


एक पाकिस्तानी ने सवाल खड़ा कर दिया की, तुमने एक हिन्दू को शहीद कैसे कह दिया 

वहीँ दूसरा कह रहा है की, शहीद कहा तो कहा, पर शहीद को जो इज़्ज़त प्राप्त होती है वो एक काफिर को नहीं होगी (उर्दू वाला ट्वीट)

देख सकते है हमारे देश के सेक्युलर, ये पाकिस्तानी क्या मानसिकता रखते होंगे भारत के बारे में 
इनसे दोस्ती करना चाहते है हमारे सेक्युलर, जो अपने ही सैनिक को हिन्दू होने के नाते शहीद मानने से इंकार कर रहे है, वो भारत के बारे में क्या सोचते होंगे 

हमारे देश के सेक्युलर तत्व भारत पर सबसे बड़ा खतरा है