हमले का संदिग्ध है ड्राइवर सलीम, मीडिया ने फ़ौरन घोषित कर दिया हिन्दुओ का रखवाला !




मीडिया जितनी बातें अमरनाथ यात्रियों की नहीं कर रही है 
उस से अधिक एक ड्राइवर सलीम की चर्चा की जा रही है, सलीम को फ़ौरन मीडिया ने हीरो बता दिया 

मीडिया कह रही है की यात्रियों की बस का ड्राइवर सलीम,  इसने अपनी जान पर खेलकर बस को भगाया और कई हिन्दू तीर्थ यात्रियों की जान बचाई 

देश को टॉप क्वालिटी का झूठ बोलकर सलीम को हीरो बनाया जा रहा है 
ताकि देश में इस्लामिक आतंकवाद की चर्चा ही न हो 

ड्राइवर सलीम की गतिविधियां खुद ही संदिग्ध है 
किसी  भी ड्राइवर को 1 टायर का पंचर बनाने में 2  घंटे नहीं लगते, झूठ बोलकर सलीम हिन्दू यात्रियों को 7 बजे के बाद ले गया, बस पर गोलियां सामने से चलाई गयी पर 1 भी गोली सलीम को नहीं लगी 

नोट : बस  बुलेट प्रूफ नहीं थी, न ही सिर्फ सीसा, अगर कोई नीचे भी झुक जाये तो भी स्टील, टिन की पतली चादर को गोली बिना किसी रुकावट के भेद देती है 
दर्जनों हिन्दू तीर्थ यात्रियों को गोली लगी, पर सामने बैठे सलीम को 1 भी गोली नहीं लगी 


1 पंचर बनाने में 2 घंटे लगवाए, ताकि आतंकवादी घात लगा सके, 7 बजे के बाद जानबूझकर बिना सुरक्षा में बस को ले गया, ताकि आतंकी हमला करे और उसके बाद भागने में कामयाब हो सके 
आतंकियों को पहले से पता था की बस ड्राइवर कौन है, इसलिए सामने से गोली चलाने के बाद भी 1 भी गोली सलीम को नहीं लगी 

और सबसे बड़ी संदिग्ध चीज तो ये की मीडिया अमरनाथ यात्रियों से अधिक सलीम को हीरो बनाकर इस्लामिक आतंकवाद पर होने वाली चर्चा को रोकने की कोशिश करने लगी 

ये ड्राइवर सलीम संदिग्ध है, इसे अवार्ड नहीं बल्कि इसकी जांच की  मांग होनी चाहिए 
सामने से गोली चलने पर ये कैसे बच गया!! 
loading...

loading...

Facebook